MITTI DA KHADONA LYRICS – Bilal Saeed – Lyricsmintss » LyricsMINTSS

चल कोई नहीं जे दिल तेरा बहल गया

चल कोई नहीं जे बन तेरा महल गया

नी तू तुरजा ते कदमन दे छड दे निशान

अस्सी समाज लवंगे कोई तहल गया

नि तू भूल गई ते की अस्सी रूल गए ते कि

आसन कहे तेरी रहवां छ खलोना

समाज शानू मिट्टी दा खडोना

मिट्टी दा खडोना मिट्टी दा खिदौना सोहनिये

की टूटके वि आसन कहना रोना

आसन केहड़ा रोना, आसन कहना रोना सोहनिये

सद्दे जज्बातन दी न कर परवाह:

अस्सी जाने ते सदा जाने खुदा

तोदेया तू दिल कोई होगी वजाहो

तैनू हक खुशियां दा तेरी नी खाता

अस्सी की करंगे तू ना सोची सोहनिये

नी सानु औंदा दुख गीतन छ परोना

समाज शानू मिट्टी दा खडोना

मिट्टी दा खडोना मिट्टी दा खिदौना सोहनिये

की टूटके वि आसन कहना रोना

आसन केहड़ा रोना, आसन कहना रोना सोहनिये

दुनिया जिहनु मेहंदी मिट्टी दा खडोना

मिल जावे ते मिट्टी ऐ खो जाने ते सोना

तैनू एहसास ऐ गल दा आज ते नई होना

कल नु केसे कम नै औना तेरे पछताउना

जींद मूक जानी सादी ऐनी जी कहानी

बाकी रब्ब कोलों किस की लुकाउना

समाज शानू मिट्टी दा खडोना

मिट्टी दा खडोना मिट्टी दा खिदौना सोहनिये

की टूटके वि आसन कहना रोना

आसन केहड़ा रोना, आसन कहना रोना सोहनिये

Leave a Comment