MERI MAA KE BARABAR KOI NAHI LYRICS – JUBIN NAUTIYAL | Lyricsmintss – Lyricsmintss » LyricsMINTSS

Jubin Nautiyal . द्वारा Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi Lyrics अभी हाल ही में हिंदी भक्ति गीत जारी किया गया है। इस नए भजन को जुबिन नौटियाल ने अपनी आवाज दी है और संगीत पायल देव ने निर्देशित किया है। मेरी मां के बराबर कोई नहीं गाने के बोल मनोज मुंतशिर ने लिखे हैं।

मेरी माँ के बराबर कोई नहीं Lyrics

ऊंचा है भवन ऊंचा मंदिर
ऊँची है शान मैया तेरी
चारणों में झुके बादल भी तेरे
पर्वत पे लगे शय्या तेरी

हे कालरात्रि हे कल्याणी
तेरा जोड़ा धारा पर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं

तेरी ममता से जो गहरा हो
ऐसा से सागर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं

जैसा धरा और नदियां
जैसे फूल और बगियां
मेरे इतना ज्यादा पास है तू

जब ना होगा तेरा अंचल

नैना मेरे होंगे जल थाली
जाएंगे कहां फिर मेरे आंसु

दुख दूर हुआ मेरा सारा
अंधियारों में चमक तार
नाम तेरा जब भी पुकार:

सूरज भी यहां है चंदा भी
तेरे जैसा जगागर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं

हे कालरात्रि हे कल्याणी

तेरा जोड़ा धारा पर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं

तेरे मैंडिरों में माई
मैने जोत क्या जलाई
हो गया मेरे घर में उजाला

क्या बात तेरी माया:
जब कभी मैं लद्दाख
तूने दस भुजाओं से संभला

खिल जाति है सुखी डाली
भर जाति है झोली खली
तेरी ही महर है महरवाली

ममता से तेरी बढ़ के मैया
मेरी तो धरोहर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं

हे कालरात्रि हे कल्याणी
तेरा जोड़ा धारा पर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं

तेरी ममता से जो गहरा हो
ऐसा से सागर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं

मेरी मां के बराबर कोई नहीं
मेरी मां के बराबर कोई नहीं

माँ मेरी माँ

मेरी मां के बराबर कोई नहीं

Leave a Comment